तेजपात के फायदे, औषधीय गुण, आयुर्वेदिक उपचार एवं नुकसान

Sponsored

तेजपात की घरेलू दवाएं, उपचार: तेजपात सर्दी-जुकाम, सिरदर्द, सिर की जुएं, नेत्ररोग, दांतों की मैल, दमा रोग, खांसी, हकलाहट, अरुचि, पेट फूलना, वमन (उल्टी), पीलिया रोग, पथरी, सुख प्रसव, गर्भाशय शुद्धि, गर्भाशय की पीड़ा, वायुगोला, सन्धिवात, रक्तस्राव आदि बिमारियों के इलाज में तेजपात की घरेलू दवाएं, होम्योपैथिक, आयुर्वेदिक, उपचार, औषधीय चिकित्सा प्रयोग निम्नलिखित प्रकार से किये जाते है: तेजपात के फायदे, लाभ, घरेलू दवाएं, उपचार, औषधीय गुण, सेवन विधि एवं नुकसान:-

Table of Contents

तेजपात के विभिन्न भाषाओँ में नाम

हिंदी                   –     तेजपात, तेजपत्ता
अंग्रेजी               –      Indian Cinnamon
संस्कृत              –      तमालपत्र
गुजराती            –      लमालपत्र
मराठी               –       तमाल पत्र
बंगाली              –       तेजपात
पंजाबी              –       तमाल पत्र
तैलगू                –       दिरसेनामु
अरबी                –       साजजे हिंदी
फ़ारसी              –        सादरस

तेजपात में पाए जाने वाले पोषक तत्व

पत्तियों में एक उड़नशील तेल पाया जाता हैं। जिसका मुख्य घटक यूजीनोल है। इसके अतिरिक्ति तार्पीन तथा सिंनेमिक ऐल्डीहाइड भी पाया जाता हैं। पोषक तत्व जिंक 3.70 मिलीग्राम, फास्फोरस 113 मिलीग्राम, मैंगजीज 8.167 मिलीग्रा, पोटैशियम 529 मिलीग्राम, कैल्शियम 834 मिलीग्राम, आयरन 43 मिलीग्राम, सोडियम 23 मिलीग्राम, विटामिन C 46.5 मिलीग्राम,  विटामिन A 6185 आई यू, पायरिडॉक्सिन 1.746 मिलीग्राम, नियासिन 2.005 मिलीग्राम, फोलेट 180 एमसीजी, कोलेस्ट्रोल 0 मिलीग्राम, फैट 8.36 मिलीग्राम, प्रोटीन 7.61 मिलीग्राम, कार्बो हाइड्रेट 74.97 7.61 मिलीग्राम, ऊर्जा 313 किलो कैलोरी तेजपात में आदि पोषक तत्व पाये जाते है।

सर्दी-जुकाम में तेजपात के फायदे एवं सेवन विधि:

सर्दी-जुकाम से ग्रसित मरीज को चाय पत्ती की जगह तेजपात के चूर्ण की चाय पीने से छीकें आना, नाक बहना, जलन, सिर दर्द में शीघ्र आराम मिलता हैं। तथा तेजपात के पत्तों को सूँघने से भी लाभ होता हैं। तेजपात की छाल 5 ग्राम और छोटी पिप्पली 5 ग्राम को पीसकर 2 चम्मच मधु के साथ चटाने से खांसी और जुकाम नष्ट होता हैं।

सिरदर्द में तेजपात के फायदे एवं सेवन विधि:

सिरदर्द में 10 ग्राम तेजपात के पत्तों को जल के साथ पीसकर मस्तक पर लेप करने से ठड या गर्मी से उत्पन्न सिर दर्द में आराम मिलता हैं। आराम होने पर लेप साफ कर देना चहिए।

सिर की जुएं में तेजपात के फायदे एवं सेवन विधि:

सिर की जुंएं को जड़ खत्म करने के लिए तेजपात के 5-6 पत्तों को एक गिलास पानी में इतना उबालें कि पानी आधा रह जाये। इस पानी से रोजाना सिर में मालिश करने से या इसी पानी को जल में मिलाकर रोजाना स्नान करने से सिर की जुएं नष्ट हो जाती है।

नेत्ररोग में तेजपात के फायदे एवं सेवन विधि:

नेत्र रोग में तेजपात को पीसकर आँख में लगाने से आँख का जाला और धुंध मिट जाती हैं। आँख में होने वाला नाखूना रोग भी इसके प्रयोग से कट जाता हैं।

दांतों की मैल में तेजपात के फायदे एवं सेवन विधि:

दांतों की मैल को साफ करने के लिए तेजपात के पत्तों का बारीक चूर्ण सुबह-शाम दांतों पर मलने से दांतों में चमक आती है। तेजपात डंठल को दांतों में चबाते रहने से दाँतों से खून आने की समस्या से आराम मिलता हैं।

दमा रोग में तेजपात के फायदे एवं सेवन विधि:

दमा रोग की समस्या से छुटकारा पाने के लिए मरीज को तेजपात और पीपल को 2-2 ग्राम की मात्रा में अदरक के मुरब्बे की चाशनी में बुक कर चटाने से दमा और श्वांस नली का उपद्रव मिट जाता है।

Sponsored
खांसी में तेजपात के फायदे एवं सेवन विधि:

खांसी से पीड़ित मरीज को सूखे तेजपात के पत्तों का चूर्ण एक चम्मच की मात्रा में एक कप गर्म दूध के साथ सुबह-शाम नियमित सेवन करने से खांसी में लाभ होता हैं। एक चम्मच तेजपात का चूर्ण मधु के साथ प्रयोग करने से खांसी में आराम मिलता हैं।

हकलाहट में तेजपात के फायदे एवं सेवन विधि:

हकलाहट बच्चों या बुढ़ापे की हकलाहट में तेजपात के पत्ते नियमित रूप से चूसते रहने से हकलाहट में लाभ होता है।

अरुचि (भूख न लगने) में तेजपात के फायदे एवं सेवन विधि:

अरुचि (भूख न लगने) में तेजपात का रायता सुबह-शाम खाने से भूख की वृद्धि होती हैं।

पेट फूलने में तेजपात के फायदे एवं सेवन विधि:

पेट फूलने पर तेजपात के पत्तों का काढ़ा पिलाने से पसीना आता है और आतों की खराबी से पेट का फूलना, दस्त लगना आदि में आराम हो जाता हैं।

उबकाई (वमन/उल्टी) में तेजपात के फायदे एवं सेवन विधि:

उबकाई (वमन/उल्टी) में तेजपात के 2-4 ग्राम चूर्ण की फंकी सुबह-शाम देने से वमन बंद हो जाता है।

पीलिया रोग में तेजपात के फायदे एवं सेवन विधि:

पीलिया रोग में तेजपात के नियमित रूप से 5-6 पत्ते चबाने से पीलिया रोग की तीव्रता कम होती हैं।

सुख प्रसव में तेजपात के फायदे एवं सेवन विधि:

सुख प्रसव की कमना करने वाली महिलाओं को तेजपात के पत्तों की धूनी देने से बच्चा सुख पूर्वक हो जाता हैं।

गर्भाशय की शुद्धि में तेजपात के फायदे एवं सेवन विधि:

गर्भाशय की शुद्धि के लिए स्त्रियों को तेजपात के पत्तों का महीन चूर्ण 1-3 ग्राम तक मात्रा में सुबह-शाम सेवन करने से गर्भाशय शुद्ध होता हैं। प्रसूता को तेजपात के पत्तों का काढ़ा 40-60 मिलीग्राम सुबह-शाम पिलाने से दूषित रक्त तथा मल आदि निकल कर गर्भाशय शुद्ध हो जाता हैं।

गर्भाशय की पीड़ा में तेजपात के फायदे एवं सेवन विधि:

गर्भाशय की पीड़ा की समस्या से शीघ्र छुटकारा पाने के लिए महिलाओं को तेजपात का काढ़ा बनाकर काढ़े में बैठाने से गर्भाशय की पीड़ा शांत होती है।

वायुगोला में तेजपात के फायदे एवं सेवन विधि:

वायुगोला में तेजपात की छाल का चूर्ण 2-4 ग्राम पीसकर रात्रि में सोते समय फांकने से वायु गोला मिटता हैं। तथा पेट के दस्त साफ हो जाते है।

सन्धिवात रोग में तेजपात के फायदे एवं सेवन विधि:

सन्धिवात रोग में तेजपात के पत्तों को जोड़ों पर लेप करने से सन्धिवात रोग में लाभ होता हैं।

रक्तस्राव में तेजपात के फायदे एवं सेवन विधि:

रक्तस्राव में शरीर के किसी भी अंग से रक्तस्राव होने पर एक चम्मच तेजपात का चूर्ण एक कप पानी के साथ 2-3 बार सेवन करने से रक्तस्राव रोग में लाभ होता हैं।

तेजपात का परिचय

उष्ण एवं समशीतोष्ण हिमालय प्रदेश में 3,000 से 6,000 फुट की ऊंचाई तक तमाल पत्र के जंगली वृक्ष पाये जाते हैं। तेजपात के सुखाये हुये पत्ते बाजारों में तेजपात के नाम से बिकते हैं। पत्तियों का रंग जैतूनी हरा, तथा उर्ध्व पृष्ठ चिकना, 3 स्पष्ट शिराओंयुक्त तथा इसमें लौंग एवं दालचीनी की सम्मिलित मनोरम गंध पाई जाती हैं।

तेजपात के औषधीय गुण-धर्म

हल्का, तीक्ष्ण, कड़वा, मधुर, उष्ण, दीपन-पाचन, वातानुलोमक, मस्तिष्क को बल देने वाला, पेशाब को साफ करने वाला, आमाशय को शक्ति देने वाला, आमाशय के लिये हितकारी तथा सौमनस्यजनन है।

तेजपात खाने के नुकसान

तेजपात का अधिक मात्रा में प्रयोग करने से आपको डायरिया तथा वोमिटिंग हो की सम्भवना रहती है।

Subject-Tejpat ke Aushadhiy Gun, Tejpat ke Aushadhiy Prayog, Tejpat ke Labh, Tejpat ke Fayde, Tejpat ke Gharelu Upchar, Tejpat ki Gharelu Davaen, Tejpat ke Fayde, Aushadhiy Gun, Ayurvedic Upchar Evam Nuksan, Tejpat ke Fayde, Labh, Gharelu Davaen, Aushadhiy Gun, Sevan Vidhi Evam Nuksan, Tejpat Benefits And Side Effects In Hindi.

Sponsored

Reply

Don`t copy text!