गेंदा के फूल के फायदे और नुकसान एवं औषधीय गुण

Sponsored

गेंदा की दवा:- कैंसर, ट्यूमर, बुखार, योनि संक्रमण, नपुंसकता, कामशक्ति, योनि शक्ति, सफ़ेद पानी, पथरी, बवासीर, मूत्र विकार, नेत्ररोग, त्वचा, स्तन की गांठ, श्वांस, खांसी, दमा, दंतपीड़ा, कर्णरोग, सूजन, कब्ज, दाद, घाव, बेवाई, चोट-मोच, फोड़े-फुंसी आदि बिमारियों के इलाज में गेंदा फूल के औषधीय चिकित्सा प्रयोग निम्नलिखित प्रकार से किये जाते है:गेंदा के फूल के फायदे और नुकसान एवं सेवन विधि:

Table of Contents

गेंदा फूल में पाये जाने वाले पोषक तत्व

गेंदा के पुष्प में अनेक रंजक द्रव्य, बीजों में प्रोटीन तथा तेल, इसके अतिरिक्त पौधे से भी एक उग्रगन्धि तेल प्राप्त किया जाता हैं। पुष्प भेद से गेंदा की कई जातियां होती है, परन्तु इनमें (1) हजारा इसका फूल बड़ा (2) सुरनाई (3) कौकहान-लाल और पीले रंग के दलचक्र वाला प्रमुख हैं।

 कैंसर में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

वैज्ञानिक के अनुसार गेंदा के फूल में पाये जाने वाले एन्टीऑक्सिडेंट कैंसर को नष्ट करने में सक्षम होता है। गेंदा के फूल-तना-पत्ती तथा पौधा में कैंसर से लड़ने की शक्ति होती है। गेंदा के फूल-तना-पौधा का काढ़ा बनाकर सुबह-शाम नियमित सेवन करने से कैंसर में लाभ होता है।

ट्यूमर में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

गेंदा में ऐंटी-ऑक्सीडेंट ल्यूटेन ट्यूमर के विकास को रोकता है, गेंदा के फूल का काढ़ा शाम को भोजन करने के बाद तथा सोने से पहले काढ़ा पीने से ट्यूमर को जड़ से नष्ट कर देता है।

बुखार में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

बुखार को नष्ट करने के लिए गेंदा का फूल गुणकारी होता है। गेंदा के फूल में एंटी- बैक्टीरियल और एंटी-वायरल गुण पाये जाते हैं। गेंदा फूल की चाय पीने से बुखार के लक्षण जैसे कांपना, भावुकता बहुत ज्यादा ठंड लगना सभी प्रकार के बुखार में लाभकरी होता हैं।

योनि संक्रमण में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

योनि में संक्रमण में गेंदे के फूल की पंखुड़ी को एक गिलास पानी में अच्‍छे से उबाल लें। फिर इस पानी को ठंडा करके स्नान के पानी में मिलाकर स्नान करने से दो सप्ताह तक प्रयोग से योनि संक्रमण नष्ट हो जाते है।

नपुंसकता में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

नपुंसकता में गेंदा के फूलों को सुखाकर इनके बीज निकाल लें। उसके बाद इन बीज में थोड़ी सी मिश्री मिलाकर खाए। इस प्रयोग से आप की नपुंसकता नष्ट हो जाएगी। और नपुंशक पुरुष वीर्य वर्धक हो जाएगा।

कामशक्ति में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

कामशक्ति में गेंदा के 10 ग्राम बीजों को कूटकर खाने से काम शक्ति समाप्त हो जाती है।

योनि शक्ति में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

स्तम्भन (योनि शक्ति) में एक चम्मच गेंदे के बीज और एक चम्मच मिश्री मिलाकर एक कप दूध के साथ सुबह-शाम नियमित रूप से सेवन करने से वीर्य स्तम्भन और शक्ति बढ़ती है।

सफ़ेद पानी में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

रक्त प्रदर (सफ़ेद पानी) में गेंदा के फूलों के स्वरस का 5-10 ग्राम की मात्रा में सेवन करने से सफ़ेद पानी में लाभ होता है। गेंदा के फूलों का 20 ग्राम कल्क को 10 ग्राम घी में भूनकर सेवन करने से रक्त प्रदर में लाभ होता हैं।

पथरी में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

अश्मरी (पथरी) में गेंदा के पत्तों के 20-30 ग्राम काढ़ा को सुबह-शाम कुछ दिनों तक सेवन करने से पथरी गलकर निकल जाती हैं।

बवासीर में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

बवासीर में गेंदा के पत्ते 10 ग्राम, काली मिर्च दो ग्राम, दोनों को एक साथ पीसकर पिलाने से बवासीर रोगी को लाभ होता है। गेंदा के फूल की पंखुड़ियों को 5 से 10 ग्राम तक घी में भूनकर दिन में दो तीन बार खिलाने से बवासीर से बहने वाला खून बंद हो जाता हैं। गेंदे के पत्तों का अर्क खींचकर पीने से अर्श में बहने वाला रक्त शीघ्र बंद हो जाता है। 250 ग्राम गेंदे के पत्ते और केले की जड़ दो किलो, इनको रात्रि में पानी में भिगो दें और सुबह अर्क खींच लें, इस अर्क की 15-20 ग्राम तक की मात्रा में सेवन सेवन करने से बवासीर नष्ट हो जाती है।

मूत्र विकार में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

मूत्रविकार में गेंदे के 10 ग्राम पत्तों को पीसकर उनके रस में मिश्री मिलाकर दिन में दो तीन बार पिलाने से पेशाब सुचारु रूप से होने लगती है

नेत्ररोग में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

नेत्र रोग में गेंदा फूल की चाय में एंटीऑक्सीडेंट्स, जेक्सनथिन, ल्य्कोपेन, लुटेइन आदि तत्व पाए जाते हैं जो नेत्र रोग और अंधापन को रोकने में मदद करते हैं। गेंदा फूल आँखों के लिए एंटीसेप्टिक का काम करता है। आंखों का लालमा में गेंदे के रस से आंख धोने से बहुत आराम मिलता है।

त्वचा में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

गेंदा के फूल में ताकतवर हर्ब सूदिंग प्रॉपर्टीज यानि शांति कारक गुण होते हैं। इसलिए गेंदा के फूलों का इस्तेमाल करने से त्वचा की जलन कम हो जाती है। चोट लगने पर त्वचा को ठीक करने के लिए भी गेंदा के एक्सट्रेक्ट युक्त क्रीम का इस्तेमाल फायदेमंद होता है।

Sponsored
स्तन की गांठ में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

स्तनशोथ (स्तन की गांठ) में गेंदा के पत्तों को पीसकर स्तनों पर लगाने और कपड़ा डालकर सिकाई करने से सूजन बिखर जाती हैं।

श्वांस में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

श्वास रोग में गेंदा के पुष्पों के बीजों की घुंडी का 2-5 ग्राम चूर्ण, 10 ग्राम खंड और एक चम्मच दही के साथ दिन में 3 बार सेवन करने से श्वाँस, दमा और खांसी दूर होती हैं।

खांसी में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:खांसी में तुलसी के फायदे एवं सेवन विधि:CLICK HERE

खांसी रोगी को गेंदा के बीजों का चूर्ण बनाकर उसमें समभाग मिश्री मिलाकर एक चम्मच की मात्रा में पानी के साथ 2-3 बार सेवन करने से खांसी में लाभ होता हैं।

दमा में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

दमा रोगी को गेंदा के बीजों का चूर्ण का काढ़ा बनाकर एक ग्राम मिश्री मिलाकर सुबह-शाम एक चम्मच शुद्ध जल के साथ सेवन करने से दमा रोगी को आराम मिलता है।

दंतपीड़ा में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

दंतशूल में गेंदा के पत्तों के काढ़े से कुल्ले करने पर दांतों के दर्द में शीघ्र आराम मिलता हैं। तथा मुख की दर्गन्ध इस प्रयोग से दूर हो जाती है।

कर्णरोग में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

कर्णशूल (कान का दर्द) में गेंदा के पत्तों का रस 2-2 बूँद कान में डालने से कान का दर्द मिट जाता है।

कब्ज में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

कब्ज के रोगी गेंदा के 10 पत्तों को दो चम्मच पानी में पीसकर 5 ग्राम मिश्री मिलाकर छानकर सेवन करने से कब्ज में आराम मिलता है।

दाद में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

दाद में गेंदा के फूलों का स्वरस को दिन में 3 से 4 बार सेवन करने से दाद कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है।

सूजन में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

गेंदा में एंटी-इंफ्लेमेंट्री गुण होते है इसलिए सूजन को कम करने के लिए यह काफी उपयोगी होता है। गेंदा की चाय बनाकर पीने से या लेप लगाने से सूजन कम करने में मदद मिलती है। आंतरिक अंगों की सूजन को कम करने के लिए गेंदे का काढ़ा बनाकर पिलाने से अंदर की सूजन को नष्ट कर देती है।

चोट-मोच में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

चोटे- मोच में गेंदे के पंचाग का रस निकाल कर चोट-मोच और सूजन पर लेप करने से चोट-मोच में आराम मिलता हैं।

पैर की बेवाई में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

बिवाई में गेंदा के पत्तों का रस वैसलीन में मिलाकर हाथ पैरों पर लेप करने से बिवाई और हाथ पैरों की खुश्की दूर होती हैं।

घाव में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

घाव में गेंदे के पत्तों को पीसकर फोड़ें-फुंसी और घाव पर लगाने से आराम होता हैं। अर्श के मस्सों पर भी आराम होता है।

फोड़े-फुंसी में गेंदा फूल के फायदे एवं सेवन विधि:

फोड़े-फुंसी में गेंदा के पत्तों को पानी के साथ पीसकर शरीर पर लेप करने से फोड़े-फुंसी नष्ट होती है।

गेंदा पुष्प का परिचय

गेंदे का पौधा अपने सुंदर आकर्षक पुष्पों, पत्तियों से निकलती मदमस्त खुशबू मसलने पर की वजह से घरों और उद्यानों में लगाया जाता हैं पुष्प भेद से गेंदा की कई जातियां होती है, परन्तु इनमें (1) हजारा इसका फूल बड़ा (2) सुरनाई, (3) कौकहान-लाल और पीले रंग के दलचक्र वाला प्रमुख हैं।

भारत में गेंदा फूल का महत्वपूर्ण स्थान है क्योंकि गेंदा फूल का उपयोग धार्मिक तथा सामाजिक अवसरों में सजाने के रूप में किया जाता है। गेंदा फूल को पूजा अर्चना के अलावा शादी-विवाह, जन्म दिन, सरकारी एवं निजी संस्थानों में आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों के अवसर पर पंडाल, मंडप-द्वार तथा गाड़ी, सेज आदि सजाने एवं अतिथियों के स्वागत के लिए माला, बुक तथा फूलदान सुसज्जित करने में भी गेंदा का प्रयोग किया जाता है। गेंदा के फूल का प्रयोग मुर्गियों के भोजन के रूप में भी किया जा रहा है। गेंदे के प्रयोग से मुर्गी के अंडे का रंग पीला हो जाता है, जिस प्रकार अण्डे की गुणवत्ता तो बढ़ती है। साथ ही गेंदा फूल अपनी और आकर्षित कर लेता है।

गेंदा फूल का बाह्य-स्वरूप

यह 2-3 फुट ऊँचा रोमश क्षुप होता हैं। कांड और शाखाएं रोमयुक्त लाल बैंगनी रंग की, पत्र एकांतर पक्षवत, विभक्त रोमश, उग्रगन्धि (मसलने पर खुश्बू आती है) मालाकार, दंतुर, पुष्प बड़े मुण्डकों में गहरे पीले या नारंगी रंग के, बीज लम्बे कृष्ण वर्ण होते हैं।

गेंदा फूल के औषधीय गुण-धर्म

गेंदा कफ पित्त प्रशमन, शोथहर, रक्तरोधक एवं रक्त शोथहर हैं।

गेंदा फूल बीज खाने के नुकसान

गेंदा का अत्यधिक प्रयोग हानिकारक है। यह कामशक्ति को घटाता है। गेंदा के 10 ग्राम बीजों को कूटकर खाने से काम शक्ति समाप्त हो जाती है।

गेंदा का अधिक सेवन करने एलर्जी का खतरा रहता है जिससे त्वचा पर रैशेज हो सकते हैं। गेंदा का अधिक उपयोग फर्टीलिटी को कम करता है।

गेंदा पीरियड्स को प्रभावित कर सकता है इसलिए गेंदे का प्रयोग उपयोग गर्भावस्था और दूधपान के समय नहीं करना चाहिए।

Subject-Genda Phul ke Aushadhiy Gun, Genda Phul ke Aushadhiy Prayog, Genda Phul ke Labh, Genda Phul ke Gharelu Upchar, Genda Phul ke Fayde Evam Sevan Vidhi, Genda Phul ke Fayde, Genda Phul ke Nuksan, Genda Phul Benefits And Side Effects In Hindi.

Sponsored

Reply

Don`t copy text!