बांझपन की जटिल समस्या के कारण, लक्षण, घरेलू दवा, इलाज एवं उपचार

Sponsored

बांझपन- महिलाओं के जीवन का सबसे बड़ा सपना उनका मां बनना होता है लेकिन आजकल आधुनिक जीवनशैल के वजह से महिलाओं को बांझपन यानि इनफर्टिलिटी जैसी समस्या का समना करना पड़ रहा है। बांझपन वह स्थिति है जिसमें महिलाएं गर्भधारण नहीं कर पाती हैं। अगर कोई महिला लगातार एक साल तक प्रयास करने के बाद भी मां नहीं बन पाती है तो इसका साफ मतलब है की वो महिला बांझपन का शिकार होती जा रही है। कुछ महिलाएं शादी के बाद कभी गर्भधारण नहीं कर पाती हैं तो कुछ स्त्रियों में एक बच्चा जन्म के बाद दूसरी बार गर्भधारण करने में मुश्किलें आने लगती आने लगती है। इस तरह से प्रकार से बांझपन दो प्रकार का होता है। अगर आप भी बांझपन का शिकार हैं और इस समस्या से निदान पाना चाहते हैं तो आइए जानतें हैं इस पोस्ट के माध्यम से कारण, लक्षण, दवा, इलाज एवं उपचार विधि के बारें में….

आयुर्वेदिक औषधि
Click Here
जड़ी-बूटी इलाज
Click Here

बांझपन के कारण कुछ इस प्रकार हैं जैसे-

बांझपन के लक्षण कुछ इस प्रकार से हैं जैसे- 21 दिन से कम समय के अंतराल में पीरियड्स आना, पीरियड्स के दौरान 2 दिन से भी कम समय तक ब्लीडिंग होना, 2 पीरियड्स के बीच में ब्लीडिंग होना जिसे इंटरमैंस्ट्रुअल ब्लीडिंग कहते हैं. इसे स्पौटिंग भी कहते हैं, 3 मासिकचक्र में पीरियड्स न आना, पीरियड्स 35 दिन के अंतराल से अधिक समय में आना, मासिकचक्र के दौरान अत्यधिक ब्लीडिंग होना, इरैक्शन प्राप्त करने में समस्या आना, इरैक्शन को बनाए रखने में समस्या आना, और सैक्स की इच्छा कम होना आदि शामिल है।

बांझपन के कुछ लक्षण इस प्रकार से हैं जैसे:-

अनियमित मासिक धारण होना, मासिक धर्म में अधिक ब्लीडिंग होना, महिलाओं में सही प्रकार से गर्भाशय का विकास न होना, ठुड्ढी पर बाल आना, वजन बढ़ना, सेक्स के दौरान दर्द होना, पॉलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम, असामान्य पीरियड मासिक धर्म का आना इत्यादि लक्षण हो सकते हैं।

बांझपन से निदान पाने के लिए कुछ ध्यान देने योग बातें-

विटामिन-D गर्भावस्था के लिए और एक स्वस्थ शिशु को जन्म देने के लिए आवश्यक है। वास्तव में, विटामिन-डी की कमी से महिलाएं गर्भधारण नहीं कर पाती हैं इसलिए प्रतिदिन सुबह- सुबह 10 मिनट धूप लेना आवश्यक ताकि आपके शरीर में विटामिन-डी का निर्माण होता रहे। विटामिन-डी से परिपूर्ण भोजन जैसे कि पनीर, सामन (salmon), अंडे की ज़र्दी और विटामिन-डी से युक्त भोज्य-पदार्थों का सेवन करने से बांझपन दूर होकर महिलाएं गर्भधारण कर लेती हैं।

यह भी पढ़ें- यौन शक्ति बढ़ाने के तरीके…
गर्भाशय में किसी भी प्रकार की समस्या के लिए यहाँ क्लिक करें…
मासिक धर्म (periods) के दौरान ना करें सेक्स..
यहां पढ़ें- सेक्स करने के फायदे…
यहां पढ़ें- मासिक धर्म बारे में…
यह भी पढ़ें- महिलाओं में सेक्स के फायदे-
सेक्स मूड बनाने के लिए इन टिप्स को करें फॉलो …

 

आजमाएं देशी घरेलू दवा एवं नुस्खे-

 

स्त्री के बांझपन की परेशानी में उलटकंबल के फायदे:-

स्त्रियों के बांझपन (गर्भ न ठहरने) की समस्या में उलटकंबल की जड़ की छाल को 6 ग्राम तक की मात्रा में 1 ग्राम काली मिर्च के साथ पीसकर मासिक धर्म से एक सप्ताह पूर्व से और जब तक मासिक धर्म जारी रहता है। तब तक सेवन करने स्त्रियों का बांझपन दूर होता है और गर्भाशय को शक्ति प्राप्त होती है।

पीपल से स्त्रियों के बांझपन का इलाज:-

स्त्रियों के बांझपन की परेशानी या पुत्र की कमाना करने वाली महिलाओं को पीपल के सूखे फलों को 1-2 ग्राम चूर्ण की फंकी कच्चे दूध के साथ मासिक धर्म के शुद्ध होने के पश्चात दो सप्ताह तक सेवन करने से स्त्रियों का बांझपन दूर होता है तथा इसके प्रयोग से स्त्री गर्भधारण कर लेती है।

बांझपन की जटिल समस्या में अश्वगंधा के गुण:-

अश्वगंधा जड़ी बूटी हार्मोन को बरक़रार बनाए रखने और प्रजनन अंगों के कार्य-क्षमता को बढ़ावा देने में मददगार सावित हुई है और ये बार-बार हुए गर्भपात के कारण गर्भाशय शिथिल को समुचित आकर में मदद करती है। इसका सेवन एक गिलास गर्म पानी में एक चम्मच अश्वगंधा चूर्ण को मिलाकर दिन में दो बार प्रयोग में लाने से बांझपन दूर होता है।

बांझपन की समस्या में मैनफल के गुण:-

बांझपन की जटिल समस्या में मैनफल के 1 ग्राम सुखाये हुये बीजों का चूर्ण, दूध और खंड तथा केसर के साथ सेवन करने से तथा 1 ग्राम बीजों के चूर्ण की बत्ती बनाकर योनिमार्ग में धारण करने से योनिमार्ग और गर्भाशय के सभी प्रकार के दोष दूर हो जाते हैं।

बांझपन की जटिल समस्या में आक के फायदे:

Sponsored

बांझपन की परेशानी से निजात पाने के लिए सफेद आक की छाया में सुखी जड़ को महीन पीस, 1-2 ग्राम की मात्रा में 250 ग्राम गाय के दूध के साथ सेवन करने से तथा शीतल पदार्थो का पथ्य देने से गर्भाशय की बंद व ट्यूब नाड़ियां खुलती और मासिक धर्म व गभार्शय की गांठों में भी लाभ होता है।

गोखरू से बांझपन का उपचार:-

बांझपन के समस्या से जूझ रही महिलाओं को गोखरू के फल चूर्ण की 10 से 20 ग्राम मात्रा की फंकी सेवन करने से स्त्रियों में बांझपन मिटता है। इसके अलावा नियमित रूप से कुछ दिनों तक मक्‍खन और सौंफ पाउडर के मिश्रण से तैयार काढ़ा पीने से बांझपन को दूर किया जा सकता है। प्रजनन क्षमता को बढ़ावा देने का सबसे प्रभावी घरेलू उपचार माना जाता है।

बांझपन की समस्या में खजूर के फायदेमंद गुण:-

बांझपन से निजात पाने के लिए खजूर बेहद मददगार सावित हुआ है। क्योंकि खजूर कई पोषक तत्व होते हैं, जैसे कि:- विटामिन ई, विटामिन ए, विटामिन बी, लोहा और अन्य ज़रूरी खनिज, जोकि एक महिला को गर्भ धारण करने के लिए और गर्भावस्था से लेकर बच्चे को जन्म देने तक आवश्यक है।

सेवन विधि:- 2 बड़े चम्मच कटे हुए धनिये की जड़ के साथ 10 से 12 खजूर (बीज के बिना) पीस लें, अब इस पेस्ट में गाय का दूध ¾ कप मिलाएं और इसे उबाल लें। उबालें हुए इस पानी को ठंडा होने तक इंतजार करें। उसके बाद अपनी अंतिम माहवारी की तारीख से, एक सप्ताह तक दिन में एक बार पियें। एक स्वस्थ-नाश्ते के रूप में प्रतिदिन 6-8 खजूर खाते रहें और दूध, दही और स्वास्थ्य-पेय में भी कटे हुए खजूर को शामिल करें।

यह भी पढ़ें- शीघ्रपतन रोकने की जड़ी-बूटी…

धतूरा से स्तन की सूजन का इलाज

एक अच्छे स्वास्थ के लिए एक संतुलित आहार का होना जरुरी है जो प्रजनन क्षमता में सुधार के लिए महत्वपूर्ण कारक है। एक स्वस्थ, संतुलित आहार स्वास्थ्य की उस दशा या बीमारियों को रोकने में मदद करता है जो बांझपन का कारण हो सकता है और साथ ही, ये गर्भधारण की संभावना को बढ़ावा देता है ।

बांझपन की समस्या में दालचीनी का प्रयोग:-

बांझपन से निजात पाने के लिए दालचीनी डिम्ब-ग्रंथि के सही रूप से कार्य करने में मदद कर सकती है और इस तरह से दालचीनी बांझपन से लड़ने में प्रभावशाली सिद्ध हो सकती है । PCO (पॉलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम) बांझपन के मुख्य कारणों में से एक है। बांझपन की समस्या में गर्म पानी के एक कप में, दालचीनी पाउडर 1 चम्मच की मात्रा में कुछ महीनों तक दिन में एक बार इसे पीते रहें । इसके अलावा दालचीनी पाउडर का छिड़काव अपने आहार में शामिल करें।

अनार से बांझपन की समस्या से निदान:-

अनार गर्भाशय के रक्त प्रवाह में वृद्धि करता है और गर्भाशय की नसों को मजबूत कर गर्भपात की संभावना को कम करने में मदद करता है और साथ ही साथ ये भ्रूण के स्वस्थ विकास में वृद्धि करता है। अनार के बीज और छाल को बराबर मात्रा में मिलाकर उसका महीन चूर्ण बना लें और उसे एक मिटटी के घड़े रख कर अच्छी तरह से उसका मुख बंद कर दें। अब इसका प्रयोग दिन में दो बार एक गिलास पानी के साथ इस मिश्रण का आधा चम्मच लें। इसके अलावा आप ताजा अनार-फल भी खा सकते हैं, और अनार का ताज़ा रस भी पी सकते हैं ।

प्रजनन क्षमता की कमी में सिंघपर्णी के फायदे:-

प्रजनन क्षमता में होने वाले कमी को ही बांझपन कहा जा सकता है। लेकिन ज्यादातर मामलों में इन समस्‍याओं का घरेलू जड़ी-बूटियों द्वारा उपचार किया जा सकता है। क्‍योंकि ये समस्‍या का निदान संभव है। बांझपन की समस्या में आप सिंहपर्णी का प्रयोग कर सकते हैं। सिंहपर्णी श्‍लेष्‍म झिल्‍ली के स्राव को उत्‍तेजित करता है। इसके अलावा सिंहपर्णी स्‍वाद में कड़वा होता है इसमें विटामिन और खनिज पदार्थ की उच्‍च मात्रा भी होती है। इसके पत्‍तों में मूत्रवर्धक गुण पाए जाते हैं जो शरीर से विषाक्‍त पदार्थों को निकालने में हमारी मदद करती है। इस तरह जड़ी बूटियों द्वारा किसी भी प्रकार का इलाज किया जा सकता है।

प्रजनन क्षमता में वृद्धि हेतु कुछ योगासन अहम है जैसे-

नाड़ी- हस्तपादासन, शोधन प्राणायाम, पश्चिमोत्तानासन, जानू शीर्षासन, बाधा कोनासना, भ्रामरी प्राणायाम, विपरीत-करणी और योग निद्रा इत्यादि । ध्यान दे कि योगासन करते समय योग विधि पूर्वक करना चाहिए।

बांझपन की जटिल समस्या के कारण, लक्षण, घरेलू दवा, इलाज एवं उपचार/Infertility Problem Reason, Symptoms, Home Medicine, treatment In Hindi.

Searches Link: बांझपन दूर करने का इलाज और आयुर्वेदिक उपाय,  बांझपन का इलाज, बांझपन अर्थ, बांझपन दूर करने के घरेलू उपाय, पुरुष बांझपन उपचार, बांझपन किस विटामिन की कमी से होता है, बांझपन परिभाषा, बांझपन का होम्योपैथिक इलाज हिंदी, बांझपन दूर करने के टोटके, पुरुष बांझपन के लक्षणों के संकेत, banjhpan ke gharelu upchar, banjhpan ke totke, banjhpan ka ayurvedic dawa, banjhpan ka ilaj, banjhpan ke gharelu nuskhe, mard ka banjhpan, banjhpan ki jatil samyasa ke karan, lakshan, gharelu dava, ilaj evam upchar vidhi, banjhpan door karane ka ilaj evam ayurvedic ilaj, banjhpan ki deshi dava, banjhpna ka ilaj, Infertility Problem Reason, Symptoms, Home Medicine, treatment In Hindi.

Sponsored

Reply

Don`t copy text!