बच्चों के पेट दर्द का कारण, लक्षण, दवा, इलाज, घरेलू उपचार/Children Stomach Pain Home Treatment In Hindi.

Sponsored

बच्चों का पेट दर्द, कारण, लक्षण, दवा, इलाज, घरेलू उपचार/Children Stomach Pain Reason, Symptoms, Medicine, Home Treatment In Hindi.

बच्चों का पेट दर्द: बच्चों का पेट दर्द आम बात है क्योंकि बच्चों का पेट बहुत ही नाजुक होता है, और इसके कारण भी अलग हो सकते हैं। लेकिन पेट दर्द अगर बच्चों को होता है तो माता और पिता के लिए यह चिंता की बात हो जाती है। कुछ बच्चों के पेट दर्द की समस्या अपने आप तुरंत ठीक हो जाता है, और कुछ बच्चों यह परेशानी 36 घंटे बनी रहती है। बच्चों का पेट दर्द का मुख्य कारण पेट में गैस, दूध न पचने की समस्या से होता है। लेकिन इन सबके कारण के अलावा भी बहुत सारे कारण हैं जिससे बच्चों के पेट दर्द की समस्या बनी रहती है। इस अवस्था में अपेंडिक्स भी हो सकता है। अगर आपका बच्चा भी छोटा है और अक्सर बीच-बीच में पेट दर्द की समस्या होती रहती है। तो सावधान रहने की जरूरत है। क्योंकि इस जटिल समस्या से बच्चें की जान भी जा सकती है। पेट दर्द से जुड़े कुछ सरल घरेलू उपचार इसके प्रयोग से बच्चों का पेट दर्द शीघ्र ठीक हो जाता है।

आयुर्वेदिक औषधिजड़ी-बूटी इलाज

बच्चों के पेट दर्द के लक्षण क्या हो सकते हैं यह जानकारी माताओं को होना जरूरी है। क्योंकि छोटे बच्चे अपने तकलीफ को व्यक्त नहीं कर सकते बच्चों के पेट दर्द के लक्षण निम्नलिखित हो सकते हैं :-

बच्चों के पेट के बीच या ऊपर के हिस्से में दर्द होना।

बच्चों के पेट के ऊपरी हिस्से या सीने में जलन होना।

बच्चों के पेट का भरा हुआ एहसास होना और खाना न खाना।

बच्चों को उल्टी का एहसास होना और उल्टी होना।

बच्चों को लगातार हिचकी अथवा डकारे आना बच्चों के पेट दर्द का प्रमुख लक्षण हैं।

Table of Contents

दाल पानी और हींग के सेवन से बच्चों के पेट दर्द का घरेलू कुतरती इलाज:

बच्चों के पेट दर्द में एक चमच्च में थोड़ा सा डाल का पानी गर्म करके और उसी पानी में हल्का सा हींग मिलाकर पेस्ट बना लें, और बच्चों के नाभि के आस-पास लपे करने से कुछ ही मिनटों में आपके बच्चे को पेट दर्द से राहत मिल जायेगा।

काला नमक एवं हींग के प्रयोग से बच्चों के पेट दर्द का उपचार:

बच्चों के पेट दर्द में एक चुटकी हींग, अजवाइन और काला नमक मिलकर गुनगुने पानी के साथ अपने बच्चे को खिला दें, कुछ ही देर बाद आपके बच्चे का पेट दर्द ठीक हो जायेगा। मूली का रस पिलाने से भी बच्चों का पेट दर्द ठीक हो जाता है।

हरड़, हींग और काला नमक के सेवन से बच्चों के पेट दर्द का इलाज:

बच्चों के पेट दर्द में 10 ग्राम अजवाइन, 10 ग्राम हर्रे और 10 ग्राम हींग और स्वाद के लिए काला नमक को मिलाकर पीसकर चूर्ण बना लें, अब इसका प्रयोग सुबह-शाम बच्चे को खिलाने से पेट दर्द ठीक हो जाता है। तथा बच्चे के अधिक पेट दर्द होने पर गरम पानी को किसी मजबूत थैली में भर कर बच्चे की पेट की सिकाई करने से पेट दर्द में आराम मिलता है।

सरसों तेल के इस्तेमाल से बच्चों के पेट दर्द का उपचार:

अगर आपके बच्चे का पेट दर्द रो रहा हो तो सरसों का तेल हल्का गुनगुना करके अपने बच्चे के पेट पर हल्की मालिश करने से बच्चे के पेट दर्द में आराम मिलेगा। यदि आप का बच्चा 1 साल से कम उम्र का है तो दूध पिलाने के ठीक बाद उसे अपने कंधे पर ले कर बच्चे की पीठ को सहलाते रहे या हल्का-हल्का ठोक दें, जिससे बच्चे के पेट में बनी हुई गैस निकल जाएगी एवं बच्चे को पेट दर्द से शीघ्र आराम मिल जायेगा।

मेथी और चीनी के सेवन से बच्चों के पेट दर्द का इलाज:

अगर आपके बच्चे को पेट दर्द के साथ-साथ दस्त हो रहा हो तो हल्का सा मेथी के दाना के साथ चीनी को मिलाकर शुद्ध पानी के साथ बच्चों को खिलाने से बच्चे के दस्त में आराम मिलेगा और बच्चे का पेट दर्द ठीक हो जायेगा।

Sponsored
दूध एवं गर्म पानी के प्रयोग से बच्चों के पेट दर्द का उपचार:

बच्चों का पेट साफ न होने की वजह से भी बच्चे को तकलीफ का समाना करना पड़ता हैं, और आप उसकी तकलीफ को समझ नहीं पाते तो इस अवस्था में बच्चे को एक कप दूध में एक कप पानी मिलकर उबाल लें, और ठंडा होने पर बच्चे को पीला दें, कुछ ही समय बाद उसका पेट साफ हो जायेगा और बच्चे को पेट दर्द से आराम मिलेगा।

शहद और दालचीनी के सेवन से बच्चों के पेट दर्द का इलाज:

छोटे बच्चों का अपच दूर करने के कुछ सरल घरेलू उपचार के लिए एक चम्मच शहद में एक चम्मच दालचीनी का महीन चूर्ण मिलाकर बच्चे को पिलाने से आपके बच्चे के दुखते पेट को तुरंत आराम मिल जायेगा। ध्यान दें कि यह प्रयोग कम से कम एक वर्ष से ऊपर के बच्चों के लिए है क्योंकि नवजात शिशु के लिए कई बार शहद फायदेमंद नहीं होता है।

दूध, दालचीनी एवं शहद के प्रयोग से बच्चों के पेट दर्द का उपचार:

बच्चों को दूध के सेवन से भी पेट में कभी-कभी गैस बन जाती है। बच्चे के पेट दर्द से छुटकारा पाने के लिए माताओं को थोड़े गरम दूध में दालचीनी और शहद के मिश्रण को दिन में दो-तीन बार प्रयोग कराने से पेट की पीड़ा शांत होती है।

पिपरमेंट के इस्तेमाल से बच्चों के पेट दर्द का कुतरती इलाज:

नवजात शिशुओं के अपच या पेट दर्द की परेशानी को दूर करने के उपाय में पिपरमेंट के तेल का भी प्रयोग कर सकते हैं। क्योंकि पिपरमेंट का तेल बहुत शीतल होता है। इस प्रयोग के लिए माताओं को थोड़ी सी रुई लेकर रुई को हल्का सा पिपरमेंट तेल में डूबाकर बच्चे के पालने के चारों तरफ लगा दें, पिपरमेंट तेल की गंध हवा में घुलकर बच्चे के पेट दर्द में शीघ्र आराम पहुंचाएगी।

सौंफ के तेल के प्रयोग से बच्चों के पेट दर्द का उपचार:

यदि आप अपने बच्चे के पेट पर सौंफ के तेल का लेप करेंगी तो बच्चे को शीघ्र आराम मिल जाएगा। हल्का सा नारियल तेल के साथ सौंफ के तेल की मालिश बच्चे के पेट पर करने से बच्चे को शीघ्र आराम प्रदान होता है।

दूधी के फूलों के रस के प्रयोग से बच्चों के पेट दर्द का इलाज:

बच्चों के उदरशूल तथा आध्मान में दूधी के फूलों का रस निकाल कर दस बुँदे दूध में डालकर बच्चों को पिलाने से पेट दर्द में फौरन लाभ होता हैं।

अदरक, तुलसी और शहद के सेवन से बच्चों के पेट दर्द का उपचार:

छोटे बच्चों को सर्दी जुकाम के कारण भी पेट दर्द की समस्या होती है इस अवस्था में बच्चों को तुलसी व अदरक का रस 5-7 बून्द शहद मिलाकर चटाने से बच्चों का कफ, सर्दी, जुकाम, के कारण होने वाला पेट दर्द शीघ्र ठीक हो जाता हैं। ध्यान दें कि
नवजात शिशु को यह औषधि अल्प मात्रा में दें।

एलोवेरा और साबुन के प्रयोग से बच्चों के पेट दर्द की समस्या का इलाज:

छोटे बच्चों के पेट दर्द में बच्चे को पीठ के भल लेटा कर उसके नाभि पर साबुन के साथ एलोवेरा के गूदे का लेप करने से दस्त साफ़ होकर पेट दर्द ठीक हो जाता है।

अपराजिता और बकरी के दूध के प्रयोग से बच्चों के पेट दर्द का इलाज:

बच्चों के पेट दर्द से शीघ्र छुटकारा पाने के लिए अपराजिता के 1-2 बीजों को आग पर भूनकर, माता या बकरी के दूध अथवा घी के साथ चटाने से बच्चों के पेट दर्द में शीघ्र लाभ होता है।

Subject-Bachchon ka Pet Dard, Bachchon ke Pet Dard ke Karan, Lakshan, Dava, Ilaj, Gharelu Upchar, Bachchon ke Pet Dard ka Ilaj, Bachchon ke Pet Dard ka Upchar, Children Stomach Pain Reason, Symptoms, Medicine, Home Treatment In Hindi.

Sponsored

Reply

Don`t copy text!