अधकपारी, सिर दर्द, आधासीसी के कारण, लक्षण, प्रकार, घरेलू दवाएं/ आयुर्वेदिक औषधि एवं उपचार विधि

Sponsored

आधा सिरदर्द/ अधकपारी/आधासीसी/ माइग्रेन कारण, लक्षण प्रकार घरेलू दवाएं/ आयुर्वेदिक औषधि एवं उपचार विधि

  क्या होता है आधासीसी-What is Migraine Pain/ Half headache in Hindi? 

अधकपारी/आधासीसी (Migraine) एक विशेष प्रकार का सिरदर्द है जो आम सिरदर्द से अलग होता है लेकिन आम सिरदर्द को लोग माइग्रेन ही मान लेते हैं। माइग्रेन एक प्रकार की न्यूरोलॉजिकल स्थिति होती है जिसमें सिरदर्द के अलावा भी कई लक्षण भी शामिल होते हैं। जैसे कि थोड़ी-थोड़ी देर बाद सिर में एक तरफ बहुत ही कष्टदायक दर्द होता है,  ये लगभग कुछ घंटों से लेकर तीन-चार दिन तक बना रहता है। इस तरह के दर्द के साथ-साथ गैस्टिक, जी मिचलाना, (वमन) उल्टी जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं। आधासीसी का दर्द आम सिरदर्द से ज्यादा तेज होता है और ये सिरदर्द के मुकाबले ज्यादा संगीन समस्या है। आमतौर पर अधकपारी का दर्द आधे सिर में ही महसूस होता है। इसके अलावा जी मिचलाना, चक्कर आना और कमजोरी भी माइग्रेन के लक्षण होते हैं।

अधकपारी/आधासीसी के लक्षण

अधकपारी/आधासीसी (माइग्रेन) के लक्षण कुछ इस प्रकार से हैं जैसाकि आप जानते हैं की आम सिरदर्द से अधकपारी का सिरदर्द बहुत अलग होता है। साधारण या तेज दर्द, जो सिर के एक या दोनों तरफ होता है। सिर के आधे भाग में सुई जैसे चुभने वाला दर्द, मानसिक एवं शारीरिक परिश्रम करने से अधकपारी का दर्द अधिक बढ जाने के कारण मानसिक क्रियाओं में अवरोध पैदा होने के कारण किसी भी काम में मन नहीं लगता है। इसके आलावा जी मिचलाना और उल्टी होने की संभावना रहती है आवाज और प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता माइग्रेन आपका पाचन खराब कर सकता है। कुछ लोगों में माइग्रेन के दौरान ब्लड प्रेशर लो हो जाता है। इसका दर्द 4 से 72 घंटों तक रहता है। कुछ लोगों को अक्सर महीने भर में कई बार अधकपारी का दर्द होता है, जबकि अन्य लोगों को इससे कम होता है।

अधकपारी पीड़ा में वचा के प्रयोग से घरेलू उपचार: अधकपारी दर्द की समस्या से छुटकारा पाने के लिए व्यक्ति को वचा और पीपल को कूटकर इसका चूर्ण मरीज को सुंघाने से सिर के अधकपारी दर्द में लाभ होता है। वचा के आयुर्वेदिक औषधीय गुण/ दवा के रूप में प्रयोग अन्य बिमारियों के घरलू इलाज/ उपचार में रामबाण होती हैं। वचा से अनेक रोगो की दवा पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

अधकपारी के दर्द में सूर्यमुखी के प्रयोग से घरेलू उपचार: आधासीसी/अधकपारी के दर्द में सूरजमुखी के पत्ते और बीज को अच्छी तरह से खरल करके मस्तक पर दो-तीन बार लेप करने से अधकपारी के दर्द में शीघ्र आराम मिलता है और इसके निरंतर प्रयोग करने से अधकपारी का दर्द जड़ से समाप्त हो जाता है।

अधकपारी के दर्द में शतावर के प्रयोग से घरेलू उपचार: आधासीसी दर्द में शतावर की जड़ को कूट ले, और इसके रस में बराबर की मात्रा में तिल का तेल मिलाकर उसे उबाल ले अब इसी तेल को सिर पर मालिश करने से अधकपारी का दर्द शीघ्र ही ठीक होता है।

अधकपारी में रीठा के प्रयोग से घरेलू इलाज: सिर के अधकपारी दर्द में रीठे के फल को 1-2 काली मिर्च के साथ पीसकर 4-5 बून्द कान या नाक में टपकाने से आधासीसी दर्द में तत्काल आराम मिलता है।

अधकपारी दर्द में काली राई के प्रयोग से घरेलू उपचार: आधासीसी (अधकपारी) के दर्द में काली राई और कबूतर की बीट को पीसकर मस्तक पर लेप करने या मालिश करने से आधासीसी का दर्द मिटता है।

अधकपारी पीड़ा में पिप्पली के प्रयोग से घरेलू इलाज: अधकपारी दर्द से छुटकारा पाने के लिए पीपल और वच का चूर्ण समान मात्रा में लेकर 3 ग्राम तक की मात्रा में नियमित रूप से दो-तीन बार दूध या गर्म जल के साथ सेवन करने से अधकपारी दर्द नष्ट हो जाता है।

अधकपारी में पवांड़ के प्रयोग से घरेलू इलाज: आधासीसी के दर्द में चक्रमर्द (चकवड़)  के 20-25 ग्राम बीजों को कांजी में पीसकर मस्तक पर लेप करने या पुल्टिस बांधने से अधकपारी दर्द में लाभ होता हैं।

अधकपारी में नीम के प्रयोग से घरेलू उपचार: अधकपारी के दर्द में नीम के कोमल पत्तों को काली मिर्च और चावल के साथ पीसकर चूर्ण बना ले और सूर्योदय से पहले जिस तरफ से सिर में पीड़ा हो रही हो उसी तरफ की नाक में 120 से 200 मिलीग्राम तक टपकने से अधकपारी का सिरदर्द शांत हो जाता है।

Sponsored

अधकपारी दर्द में मैनफल के प्रयोग से घरेलू उपचार: अधकपारी दर्द में मैनफल और मिश्री को गाय के दूध के साथ पीसकर खाली पेट प्रयोग करने से अधकपारी का दर्द ठीक हो जाता है।

अधकपारी दर्द में काली मिर्च के प्रयोग से घरेलू उपचार: अधकपारी के दर्द में कुछ आसान घरेलू प्रयोग चूल्हे की लाल हुई मिटटी के चूर्ण तथा काली मिर्च के चूर्ण का समभाग मिलाकर नस्य लेने से भी अर्धावभेदक व आधासीसी का सिरदर्द शांत हो जाता हैं। इसके अलावा, भांगरे के रस अथवा चावलों के पानी के साथ काली मिर्च को पीसकर मस्तक पर लेप करने से माइग्रेन में आराम मिलता हैं।

अधकपारी के दर्द में लौंग के प्रयोग से घरेलू उपचार: अधकपारी दर्द में 5 ग्राम लौंग को शुद्ध पानी के साथ पीसकर धीमी आंच में पकाकर मस्तक पर लेप करने से सिर का अधकपारी दर्द नष्ट हो जाता है।

अधकपारी दर्द में लता करंज के प्रयोग से घरेलू इलाज: आधासीसी दर्द में लता करंज के बीज की गिरी के साथ समभाग सहजने के बीज, तेजपात, वच और खंड मिलाकर खरल करके दिन में दो तीन बार प्रयोग करने से आधाशीशी तथा अन्य सिरदर्द दूर होते हैं। लता करंज बीजों को पानी में पीसकर थोड़ा गुड़ मिला, किंचित उष्ण कर, जिस ओर पीड़ा हो रही हो उसी तरफ 1-2 बून्द नाक में टपकाएं और आधा घंटे बाद दूसरे नाक में टपकने से अधकपारी दर्द में पूर्ण लाभ होता हैं।

अधकपारी दर्द में इन्द्रायण के प्रयोग से घरेलू उपचार: आधासीसी दर्द में इन्द्रायण फल का रस या जड़ की छाल का काढ़ा और सरसों के तेल के साथ पकाकर, छानकर 25 मिलीलीटर सुबह-शाम उपयोग करने से अधकपारी का दर्द शीघ्र ही नष्ट हो जाता है।

अधकपारी दर्द में गाजर के प्रयोग से घरेलू उपचार: आधासीसी (अधउका) में गाजर के पत्तों को घी में चुपड़कर गर्म करके उसका रस निकालकर 2-3 बूँद नाक और कान में टपकाने से छीकें आकर अधकपारी का दर्द कुछ ही घंटों में ठीक हो जाता है

अधकपारी दर्द में आक के प्रयोग से घरेलू उपचार: आधासीसी दर्द में जंगली कंडो की राख को आक के दूध में तरकर छाया में सुखा लेना चाहिये। इसमें से 125 मि० ग्रा ० सुंघाने से छीकें आकर सिर का दर्द, अधकपारी, जुकाम, बेहोशी इत्यादि रोग में लाभ होता है। पीले पड़े हुये आक के 1-2 पत्तों के रस का नस्य लेने से आधासीसी में लाभ होता हैं। किन्तु बहुत कडुवा होता है इस लिए इसका प्रयोग सावधानी पूर्वक करना चाहिए।

अधकपारी दर्द में अपामार्ग के प्रयोग से घरेलू उपचार: आधासीसी के दर्द में अपामार्ग के बीज के चूर्ण को सूँघने मात्र से आधासीसी, मस्तक की पीड़ा में लाभदायक होता है। इस चूर्ण को सुंघाने से मस्तक के अंदर जमा हुआ कफ पतला होकर नाक के रास्ते से निकल जाता है।

सुझाव: अधकपारी के दर्द में यदि सिर, गर्दन और कंधों की मालिश की जाए तो यह इस दर्द से आराम दिलाने बहुत सहायक सिद्ध हो सकता है। रोगी साँस की गति को थोड़ा धीमा करके, लंबी साँसे लेने की कोशिश करें। यह तरीका दर्द के साथ होने वाली बेचैनी से राहत दिलाने में सहायता करेगा।एक तौलिये को गर्म पानी में डुबाकर, उस गर्म तौलिये से दर्द वाले हिस्सों की मालिश करें। कुछ लोगों को ठंडे पानी से की गई इसी तरह की मालिश से भी आराम मिलता है। इसके लिए बर्फ के टुकड़ों का उपयोग भी कर सकते हैं।

शारीरिक रोग के कारण, लक्षण, प्रकार, घरेलू दवाएं/ आयुर्वेदिक औषधि के गुण एवं उपचार विधि की जानकारी के लिए नीचे क्लिक करें
सिरदर्दहाइड्रोसील/अंडकोषपाइल्स/बवासीर खूनी दस्त

अधकपारी/आधासीसी(माइग्रेन)  के कारण, लक्षण एवं इलाज-Migraines, Cause, symptoms Treatment in Hindi

Search Link: Half headache/ adhkapari-adhasisi-sirdard kkarn, lakshan, type, gharelu davyen/ ayuvedik aushadhi upchar sevan vidhi in hindi, adha sir dard ki pida ka deshi ilaj, adhkapari ki gharelu dval/upchar/ jadi buti ki dava/ ayuvedik aushadiyon ke gun prayog, kaise karen adh-kapari ka desi ilaj/ upachar. adha sar dard me deshi davaon se upachar evam sevan vidhi. Deshi dava adha mastak dard, adha matha dard, mood dard, audhouka, mood pirane ki gharlu dava se upchar kaise karen. .

Sponsored

Reply

Don`t copy text!